Category Archives: poetry

Hindi

Quote

“The new captain of the ship”

It’s a story of a Captain posted on a Ship which was being sent off a journey over turbulent sea. The supplies seemed limited and the journey, long. The crew appeared divided, the faces young, lacking experience of the deep sea. The biggest challenge to begin with was to win the trust and unite the team. So much before addressing the challenges, the captain decided to step in as a silent observer, imbibing and absorbing every experience of the fortnight while the ship stayed anchored. The inputs to selection of supplies were highly guarded, so as to not offend anyone. The appreciations were frequent and generous over smallest of deeds. The strings to be pulled were put on hold since it was more important to keep the ropes tight for the sails to manoeuver on the right track. And soon one day, off began the voyage!

Standing at the shores, waving “bon voyage” to the ship, I wait eagerly for the first harbour from where the captain shall mail the letter of its sail so long.

The clock’s ticking as if counting every fractional second as I wait …..

Captain of the new ship : part I

Quote

Woke up much earlier

Brewed hot coffee for him

He looked cool

And handsome too

Hugged him, kissed him

And he dashed out

Waving a bye

“See u mom”,

He paused , hugged back

And off he went !

.

Stepped into routine

The hours glided by

Throwing a last glance

At the mirror

Before leaving for office

She ensured,

She looks extra special

For the day

For there in the campus

Are hundreds of them

Waiting to be crowned

And as she gave away

Much awaited trophies

& Each one returned

With a hug, a smile, a shy grin

Oh so pure is that love

She smiled to herself as well

.

Drowned in the files

Chasing the deadlines

The load unending

The work undone

The plans demanding

The fire within

Another knock –

A smiling one

This time heart warms

As she nods to the one

Walking into her room

Bringing in all glory

The helper forwards with smile

A cup of hot tea !

.

And the clock strikes again

And the guard peeps in

For nth time now

Seems eager to leave

But he can’t for she was

Still seated and working

So he just pretended checking

Which was more of insisting

He longed to lock the room

Or probably lock her in

Once and for all

For regularly she made

His working hours extended

With her own late sittings

.

Picking up the keys

Left to her own

Humming to the tunes

On radio that played

Singing to herself

Yet, Numbed to her dreams

Mechanically steering

Empty lanes and jams alike

Don’t know why the feeling strikes

Major something is amiss

.

.

.

.

Back to home and chores all done

Out of shower and still not fresh

Trying to check reminders again

Checking what has been the miss

As the habit paused again

On the message box for day

Ohhhhhhhh so this was all the miss

And how could the heart not know?

Or forget or let it go?

Since when dates got so mundane?

Once adored so much was this

What becomes now just a day

No glories of love I sing

No flights or dreams I live

Neither are there any plans

Nor are gifts , nor a date fixed

Dry , unnoticed almost past

Was today valentines day!?!?!?!

Valentine Day

Quote

कितने बदले बदले से तुम

कितना ये दिन भी बदल चले

एक हठ से क्या खो चले हैं हम

हर दिन हर पल पछताते रहे

बेबाक़ बने, बिन शब्द तोल

हम शब्द माँगते तुमसे रहे

अनकही की तेरी दुनिया में

तुम और भी ज़्यादा चुप में रमे

अनगिन तोहफ़े कब से सम्भाल

हम नाम तुम्हारे रखते रहे

कल धीरे से एक दे पाए

एक साल से जो हम सींच रहे

कुछ कुछ निष्ठुर, कुछ नरम नरम

तुम दोनो रूप में दिखते रहे –

तुमने है लिया, या नाम किया

अब बैठ यही हम सोच रहे

चुप चुप के पर्दे के पीछे

बातों के शोर मचलते रहे

और आँखें बचा बचा के भी

आँखों के संदेशों चलते रहे

रूठे भी रहे , ऐंठे भी रहे

हम आँसू आँसू पीते रहे

और कहीं हार अपनी ही मान

तेरे सदके झुकते भी रहे

सब हठ छोड़ें जो मन में ठान

अरसे से झगड़ते तुमसे रहे

अब बात तुम्हारी सभी मान

हम रो कर भी बस हँसते रहे

कितनी क़समें हम हार गए

तुम माफ़ हमेशा करते रहे

एक क़सम उठायी फिर से अब

तुम बोलो तो, हम चुप ही रहें

एक तेरी चुप ने छीन लिया

मेरे मन के सब शब्दों को

विस्मित हूँ मैं इस होनी पे

सब शोर जगत के मूक लगे

और भीड़ लगे एकांकी सी

ना दोस्त कोई, ना साथ कोई

पल पल तुमको ढूँढा करते

जो राह मिली, बस चलते रहे

हँसना सीखो तुम फिर से ना

बस दूर दूर अब तुम ना रहो

चाहो जिससे तुम बात करो

हम चुप की दुनिया में हैं भले !!!!

तुम बोलो तो !

Quote

एक उधमसिंघ नाम का station

थोड़ा सूना, बेहद सुंदर

भोर किरण मैं उसको देखूँ

भीड़ से हट कुछ यूँ भी सोचूँ :

कितनी इसपे आतीं जातीं

छुक-छुक की आवाज़ लगाती

कुली-कुली की कुछ गुहारें

चाय-चाय की भी थीं पुकारें

बस एक दो ही आतीं जातीं

देखीं मैंने वहाँ लकीरें

कुछ passenger क़ो ले चलतीं

माल भरीं कुछ रहीं खिसकतीं

क्या इनके ही जैसी होती ?

एक वो जिसमें मैं हुँ बैठी ??

छुक-छुक की आवाज़ सुनी ना

कौन रंग ये भी देखी ना

समय सारणी भी ना इसकी

ना तो driver ना ही guard;

जाने किस engine से बंधकर

पल पल पीछे चलते चलते

पलों को पीकर

धुआँ बनाती

किस पटरी से किस पटरी पे

किस station से पैदा होकर

किस station पे जा थमने को

किस किस राहगीर को चढ़ाने

किस को राह में साथ निभाने

किस को बीच राह उतारती

किस को याद डोर बांधकर

किसको भूल मिटाते जाती

याद नहीं ये कभी रुकी क्या

कभी ईंधन के लिए झुकी क्या

किसी मोह में कभी बंधी क्या

या निर्मोही मोक्ष लिपी क्या

किस signal की भाषा सुनती

कौन chain खिचने से रुकती

उसमें कौन है गाना गाता

कौन भिखारी वाद्य बजाता

दिन कब चढ़ता , कब ढल जाता

मौसम, साल बदलते जाता

यौवन बचपन लुकझिपी कर

कैसे वृध हुआ है जाता

मेरे प्रश्नों के बचपन पे

आसमान से कौन हरि सम

अपलक देख रहा मुस्कराता

अंतहीन प्रश्नों को छलता

कभी हँसाता कभी रुलाता

आँख खुली तब से पाया ये :

चले जा रही –

जीवन रेल !

जीवन रेल

Quote

जीवन के आकाश में ऊँची

आशाओं की पतंग

समय धार से गिरती, उड़ती

कैसी बहे तरंग

ज़ोर से थामो, खींचो , छोड़ो

डोर रखो मलंग

सपनों के आकाश में समरस

मन पतंग उत्तंग

: उत्तरायण का सूर्य शुभ हो

संक्रांति की पतंग दबंग, उन्नत, मदमस्त हो !

उत्तरायण २०२०

Quote

कुछ तस्वीरें किसी के कहने पे उतारी

चंद पंक्तियाँ किसी और पे वारीं

कहीं ख़ुशियाँ बिखेरीं

तो कहीं आंसुओं पे चादर डालीं

लम्हों लम्हों में ढूँढते , जीते

कुछ पल अपने लिए,

तो कुछ सबके लिए

कभी हल्की फुलकी सी,

तो कभी ज़िंदगी लगी भारी

कभी गुनगुनी धूप

तो कभी छायी बदरी कारी

कभी boss की डाँट सी

तो कभी बच्चे की किलकारी

कितने रंग, कितने चेहरों से

सजे दिलों की दीवार हमारी!

इस वर्ष, उस वर्ष,

आने वाला ,

जाने वाला,

ना वो कम था

ना ये कम होगा,

ना तब रुक वक़्त

ना ही अब थमेगा

आते जाते पलों पे

जिजीविषा की छाप

२०२० को सिंचित करे

फिर नवीन उल्लास!

२०१८ से २०२० में उतरते …..

Quote

पलकों के पर्दे में छिपाया है दुनिया से तुम्हें

कैसे नज़रें उठा के देखें जहां को अब

.

होठों के गीतों में बसाया है तुमको

कैसे तोड़ दें चुप के पहरे अब !

.

.

.

२७/१२/१९

– बेसाख़्ता !

सुबह सुबह की कलम की खिच खिच

Quote

At the mesaage beep

A memory pops up

And the fingers move

Effortlessly

To get in touch

No, the message was not

From the one to whom I write

But that says so much

Of where the thoughts

Reside…

And the heart skips a beat

Like a teenaged love

As a curve dangles and dance

Moving the lips to call-

Your name!

The screen seen by none

And the screen yet so wide

Oh! Its is me on the screen

So Leisurely I lay,

Watching the movie play!

Some memories, few dreams,

Dash of imaginary frills

Placed high-on cloud nine

A small world of mine

Wonder-I call so

And while no one ever saw

There I lived to my tunes

Till the day i opened

Dont know why and how to you

A tiny window…….

From Archives

2014

A tiny window