Category Archives: hope

उम्मीद की लौ टिमटिमाती है

Standard

उम्मीद की लौ टिमटिमाती है
थोडा सा तेल बाकी
थोड़ी सी बची बाती है

किस आँचल की मिल जाये ओट
बाती और घी का दान मिले
लंबी आयु के वर की आस में
सांस दिये की गाती है

उम्मीद की लौ टिमटिमाती है

राह

Standard

एक अनजानी डगर पे कभी चलते चलते
कोई एक चौरस्ता जाना पहचाना लगे
तो रुक जातें हैं कदम
ढूँढने को कोई पगडंडी
जहां की ना हो अनजान सी रहगुज़र
रुके रुके से कदम
छानतें हैं हर चेहरा
ना जाने किस की हँसीं मेरी हँसीं से मिले
गुदगुदाए फिर से
फिर कोई बात चले
सुन के नज़रों से,
आवाज़ से देखूं मैं उसे
हौले से छू के दिल से दिल की बात करूँ
लबों की चुप मचल उठे
रोम रोम से बहे
बन के मुस्कानें कई
जी उठेंगे जो सो चुकें एहसास
उम्र रुक जायेगी
कोई तो ऐसी राह मिले !

With credits to the poem by John White posted on his blog “Double U” ….Learn! The words touched deeply and kept haunting me. Using a translated fraction here but let me admit, the original is marvellous.

आँख मिचौली

Standard

खेल खेलना आँख मिचौली
ये भी तो नैनों की बोली
ताका झांकी फिर छिप जाना
बिन बोले नैनों का गाना

बदली के आँचल में खेले
चंदा के नखरे अलबेले
एक झलक मन को लुभाना
फिर फिर छुप छुप के भरमाना

बदली तेरे भाग्य सलोने
आज रवि भी गोदी खेले
दिन की ठंडी धुप का आना
साँझ पवन का झोंके खाना

खिल खिल हँसती डाली डाली
किसे लुभाती ये मतवाली
जिस चंदा पे है दिल हारा
क्या देखे वो रूप तुम्हारा?

अनुमानों की प्रीत अनूठी
कितनी सच्ची कितनी झूठी
जोड़ घटा ये कभी ना जाना
धरा का सपना अम्बर पाना

और आसमान धरती देखे
अनगिन बूँद की पाती भेजे
दूर क्षितिज पे मिलने जाना
लोक लाज के नियम निभाना

Raindrops

Standard

The raindrops
In multitudes
Dancing on my terrace
Fuelling the songs
That fills my heart
Emerging from the eyes
The music of my soul

Up there in the clouds
I let my desires sail
And everytime it rains
I rush out to drench
Embracing my wishes
And set my hopes soar

The raindrops
They tickle
Onto my balcony
And tiny drops glisten
On the foliage of my pots
I run my fingers on them
And hear clouds roar

The clamour, the rustle
The lightening
In a flash
The breeze cool and fragrant
Moist against my flesh
I smile, and I cry
To my heart’s core

The raindrops
They come
Breaking barriers of season
They visit me more often
Trying to heal my leisions
I pause, and I walk
My pace once more

They cease not
I cease not
They weep not
I weep not
We fall and we flow
Rise to clouds galore

India Gate

Standard

The drops pour
Drenching the stones
To washed radiance
And the monument
Stands tall
With prestine pride

The young at heart
Drawn to
The stretches of green
Juggling the balls
As they announce
Their strength
And spirits
The ease to play
And the confidence
Of control

The skies continue
To pour
Saluting the glory
And the valour
For those dances the flame
“Amar Jawan Jyoti’
For them, their love
Was precious
And life, a game!

As a silent spectator
I sit and watch
The hopes of future
The tales of the past
And deep in my heart
I pray
While kids play
May they imbibe
The essence of the place
To their lives
Be it not just a childhood memory-
“The India Gate” !

:)

Standard

सुरूर-ए-जिंदगी छाने लगा है फिर
बस इक ही आरज़ू बाकी है जीने को

तुम्हे हो ना हो, हमको तो यकीं है
ख्वाब होंगे मुकम्मल, चैन से सो लो ।

बच्चन जी

Standard

“जो असम्भव् है उसी पर आँख मेरी।
चाहती होना अमर मृत राख मेरी ।।”

चाह ना अमृतत्व की,
है आस ना ही ताज की
साँस हो बंधनरहित
तृप्ति यही मृत राख की

चार दिन जीवन मेरा
और चार बंधु साथ हैं
नेह उनके हो बसेरा
कान्हा दे बस वर यही

रैना छाए जब कभी
कोपल संभाले ओस कण
भोर की उजली किरण
उस से रचा सप्तम सुखी

चाहतें नन्ही मेरी
संभव की परिधि में पलीं
आँख में अंजुल भरे
सपने मेरे, खुशियाँ मेरी ।

Dawn

Standard

The words pop up from nowhere
Roaming around
Scanning each piece of my heart
Searching for traces
Of strings
That hold them
Into beautiful garlands

But they are lost
Or weak
Too weak to sew
The beads are heavy,
Many;
And strings small ,
And few

They dig
They tear
And cry
I hide
My fears
And sigh!
And see them leave
Scattered….

Some day
Some hope
May renew
Refresh the strings to life
And arrange back
The words
Into songs of
Spring’s cast
Beautiful
And bright !

The heart beats
To live for the day
The glances behold
The silver lining
The lips quiver
To let the song flow
The dawn will be-
Come what may !!