Monthly Archives: July 2019

Quote

कभी कभी तुम “तुम”लगते हो

“आप” कभी फिर बन जाते हो

चलते, फिरते, हँसते, मिलते-

कितने रंग बदल जाते हो

भूल कभी से करूँ ठिठोली

आप को रंग दूँ तुम की होली,

रूठ ना जाना -पर सख़्ती से

डाँट लगाना , प्रश्न उठाना ।

रिश्ते के जामे के रंग को

रंगरेज समय से बचाना ।

सही ग़लत के प्रखर पारखी ;

भूल मेरी ना हृदय लगाना !

आज बैठ पूछे है मुझसे

ज़िद ठाने तूलिका हठ से

बैना सूने, नैना सीले,

पूछ रहे हो जैसे तुझसे

फिर कब बोलियाँ फूटेंगी?

ज़िद तेरी मेरी टूटेगी ?

ना तुम बोलो, ना चुप मैं हुँ

ये बिसात कैसे पलटेगी

रूठ के तुमसे तजी तूलिका

याद तुम्हें कितना करती है

नित ठहरी कुछ कुछ लमहों पे

फिर फिर थोड़ा सा रिसती है

अब शायद इक ही आशा है

जो थोड़ा गर शेष बचा है

याद कभी तुम भी कर लेना

माफ़ मुझे कर बस हँस देना

आस यही स्पंदन करती है

कर्मों का मंथन करती है

जो कान्हा थोड़ा मुझमे है

उसके दर संबल धरती है

कभी तो मुझ तक आ जाएँगे

शब्द तेरे चुप रहने वाले

बिन बादल बरसा जाएँगे

स्नेह , प्रशंसा के कुछ दाने

नैन मूँद देखूँ वो पल मैं

एक सपने का पूरा होना

कितनी छोटी सी दुनिया है –

“आप” में “तुम” का पाना खोना !

Tum

Quote

लो मन चला समेटने

चादर भीतर ठौर

वो मन जिसकी चाह की

थाह मिले ना छोर

कैसी छेड़ी रे सखा

तुमने आज तरंग

बादल संग बरसन लगे

मन के ताल मृदंग

हुए विलुप्त ज्यूँ फेंक तुम

कंकर एक मन ताल

जाने कब से शांत था

विचलित अब बेहाल

उधर बरसते मेघ है

इधर भीगते गाल

भीड़ भाड़ में एकल रह

मन फिर करे सवाल …..

17/7/19

इस मौसम की पहली बारिश