Monthly Archives: January 2017

Quote

हाँ, अब वो बात नहीं !
“कह दो” ना कहते थे तुम कभी

“मत जाओ” मैंने कहा नहीं

कुछ भी ना कहने को, सुनने को

फिर भी ना क्या कुछ कहा नहीं..

बातों ही बातों में बात रही

.

बढ़ते चले सिलसिले यूँही

घटते रहे फ़ासले सभी

दम भर मिले साँस जो कभी

ढूँढा किए तुम हमें वहीं

हसरत भरी वो शरारतें

बातों में महकी सी साथ रहीं

….

गुज़ारा किए थे ये दिन कभी

पल पल गुज़र पाए साथ कहीं

बातों में पायें, छिपायें थे

लम्हे जो कह पाए बात नहीं

इतने क़रीब आए क्यूँ मगर

खो ही गए वो एहसास कहीं

हाँ, अब वो बात नहीं!

!!!

ना अब मचलते हो तुम कभी

ना साथ चलते हो तुम कभी

ना बात मुझसे हो उस क़दर

डर है कि छूटे ना हाथ कहीं

ढूँढे से ना मिले बात कोई 

……….

हाँ, अब वो बात नहीं!

हाँ, अब वो बात नहीं!

Cheers

Standard

Intoxicated-
What clouds the eyes?
And blurs the vision
That once crossed the skies??
..
What dries the lips 
That struggle for words?
Sip after another
Unquenched is what thirst??
….
Glass aftr glass
The celebrations roar
Drowns more the spirits
That once rose to soar

Soared across the skies
With dreamy shiny eyes
Melliferous renditions
And words that never died

The idols go hazy

The demons are crazy

The mind and the thoughts 

Are all in a frenzy

!

How then I face

The mirror and the soul

Stopping by the Alter

But Lord, I’m not whole

!!

Lost is a me

That bubbled innocence

Left is a me

That looks at senescence

…..

Juggling the greys

With all my might

Yet eying colours

Just pure and bright

🙂

Raising the toast

Spreading the cheers

I yet again reflect 

The “cheer” in the “cheers”

Quote

थोड़ा थोड़ा ख़ुमार काफ़ी है 

खामखां तुम जो मुस्कुराते हो 

दिल तो मुझसे यूँ ही ख़फ़ा सा है

और क्या जाने इससे चाहते हो 

खामखां 

Quote

बड़े अजीब से रिवाज हैं 

शहर-ए-मोहब्बत के

कहीं बातों के लहजे से,

कभी शब्दों के तीरों से

कहीं तो दूर दीवारों से

टकरा के लौट आते हुए

भीगे सन्नाटों से

ना जाने कैसी कैसी 

बेपरवाह सर्द रातों से

ये दिल मायूस होता है

अकेले छुप के रोता है

तन्हाई में उदासी 

भीड़ में पर मुस्कुराता है

जानता है ग़लत है, फिर भी

उम्मीदों पे जीता है

चोट जिनसे मिलीं,

उन लमहों को फिर भी संजोता है

लड़कपन तो नहीं लेकिन

निहायत ज़िद् का लेहज़ा है

अक़्ल सोयी नहीं लेकिन

खुदी पे वो पशेमां है

रोज़ फ़रियाद करती है

रोज़ आहें भी भरती है

रोज़ क़समें उठाती है

रोज़ फिर हार जाती है

गुलाबी सर्दियों के छोर पे 

ठहरे कुहासे सा

ठिठक जाता है चलते चलते 

बादल का कोई टुकड़ा

हवा में तैरती जैसे

कोई ख़ुशबू हो छू जाती

यूँ तेरे नाम का एहसास

अनजाने ठहर जाता

रुका रहता कभी कुछ देर

कभी थक के सो जाता

ना जाने कब तलक यूँ ही

रहेगा ये भटकता सा

बाँध लो पास तुम अपने

तोड़ दो सीले ये रिश्ते 

चले जाना है एक दिन दूर 

इन रस्म-ओ-रवायत से

गुज़र जाएँगे हम भी एक दिन 

शहर-ए-मोहब्बत से !!!

शहर-ए-मोहब्बत 

Quote

I tread the path

Of trust and “distrust”..,

Walking solo .

And when u reach out,

I doubt!

When u r not there,

I shout!

To prove 

How u hv been;

Negating

How u hv been;

The sensibility , ignored!

The warmth, questioned!

The relations, 

drowned in suspicions;

For the lacuna

That Lies within.
And then 

Solemnly

The tears roll

With sorrys

All conjured

And there you are

Silliest of all

Ever ready

To pardon it all
Hate you !!!

I shout again

 with smiles, 

comes Another refrain

Sorry…whispers again

HU – and the meanings change !

Hate You

Quote

Another year

A new beginning

Just very like

The ones gone by

Resolutions made

Filling list on wall

And Another one

Stays unsaid to all

To fall again

To fall for you

To rise again

To rise with you

To stay in love

With you..Forever

This day as I did

As I do everyday 

This year I will

As I did every year

A beginning new

That comes and goes

Just freshened by

Calendar dates

And yet so defined 

Like the start and the end

That’s there well marked

For the day and the year

But as unique

Each moment as it grows

Just as unique 

As a day or a year

Matured, seasoned

As older gets the wine;

Yet Spiced and young 

The spirits undieing !

I crazily love

And wildly fight

The tears roll down

As I hold u tight 

“Come here”, You say

And I look around

How far have I been?

Nearer where is the ground???

I madly laugh, 

with moist eyes

And cry and cry 

when smiles greet thine

….

A fairy dream

A fiction told

As fondly “you”

I quietly behold 

The tears all dry

Just smiles around

A world of warmth

And just no frowns

Another year, another day

I fall again

In love with you !

Another year

Quote

कुछ ख़ास ही होगा हुज़ूर का मिज़ाज आज यूँ ही नहीं सब भूल मुख़ातिब हुए हमसे