Quote

“तुम चुप क्यों हो?”
चाँद ने अम्बर से पूछा।
“कल अमावस्या है,
तुम नहीँ मिलोगे।”
मासूमियत से अम्बर बोला।
खेल ही खेल में
धरती ने घूमना रोक दिया;
और एक रात की अमावस
एक उम्र सी लंबी हो गयी-
कभी सोचा ना था
लुका छिपी ये रूप दिखाएगी।
आज चाँद चुप है…… !

अमावस

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.