राह

Standard

एक अनजानी डगर पे कभी चलते चलते
कोई एक चौरस्ता जाना पहचाना लगे
तो रुक जातें हैं कदम
ढूँढने को कोई पगडंडी
जहां की ना हो अनजान सी रहगुज़र
रुके रुके से कदम
छानतें हैं हर चेहरा
ना जाने किस की हँसीं मेरी हँसीं से मिले
गुदगुदाए फिर से
फिर कोई बात चले
सुन के नज़रों से,
आवाज़ से देखूं मैं उसे
हौले से छू के दिल से दिल की बात करूँ
लबों की चुप मचल उठे
रोम रोम से बहे
बन के मुस्कानें कई
जी उठेंगे जो सो चुकें एहसास
उम्र रुक जायेगी
कोई तो ऐसी राह मिले !

With credits to the poem by John White posted on his blog “Double U” ….Learn! The words touched deeply and kept haunting me. Using a translated fraction here but let me admit, the original is marvellous.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.