Dhand, Baarish aur Kohra

Standard

दमकते सूर्य की तपिश को बाहों में समेटा है
 चढ़े दिन में भी होता छिप रही संध्या का धोखा है
ये बादल तो नहीं की अपने दम से दिन को भरमा दे
ज़रूर बूंदों की चाहत ने मन सूरज का रोका है

नादान सोचता है कोहरे में खुद को  छुपा के
चाँद लम्हे बिता दे आज बारिश के आलिंगन में 
दे के बदरी को रिश्वत की वोह सघन रूप में रह ले
और खुश हो ले पा के ताज सूरज को हराने का!!

One response »

  1. sitting by the window on a rainy evening….and a friend asked me how romantic it is to watch the clouds shadow the sun and the drops as they play in the mist…….and it made me wonder whether it is actually the cloud’s omance or the sun’s!!!

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.